जाने पंच देव के बारे में जिनके पूजन से हमारा जीवन खुशहाल होता है।

panch dev- Kissa Kahani

भारतीय सनातन परंपरा में एक परमेश्वर की बात की गई है। लेकिन उन एक परमेश्वर इस जगत के संचालन के लिए कई वर्ग में देव, मानव, नाग, गंधर्व इत्यादि का भी सृजन किया है। हमारी सृष्टि का संचालन सुचारू रूप से चलता रहे उसके लिए कई देवी देवताओं का सृजन हुआ लेकिन इन सभी देवी देवताओं में पंच देव का नाम बहुत ही प्रमुख है।

तो आज के इस लेख में हम बात करेंगे पंच देवों की जानेंगे कि कौन है ये पंच देव और इनके पूजन मात्र से हमारे जीवन में क्या सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेंगे।

1- सूर्य- सबसे प्रथम स्थान पर पंच देवों में नाम सूर्य देव का आता है और इसके पीछे एक तर्क भी है कि सूर्य देव ही अकेले देवता है जो कि सर्व जन को दृश्यमान है। साथ ही साथ इस पृथ्वी के गति मे और इसके नियम पूर्वक संचालन मे सूर्य देव का बहुत ही ज्यादा योगदान है एवं सूर्य देव ऊर्जा के एक मात्र स्रोत भी माने जाते है इस जगत मे जो कि संसार के संचालन के लिए अति आवश्यक है। 

इसी लिए मान्यता है रोज प्रातः काल स्नान इत्यादि के उपरांत हम सभी को सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित करना चाहिए और सूर्य नमसकर के जरिये इंका आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए जिससे पूरे दिन हमारे जीवन मे स्फूर्ति और ताजगी बनी रहे। 

2- विष्णु- पंच देवों मे प्रथम स्थान पर भगवान विष्णु का नाम आता है। मान्यता है कि इस जगत की रचना करने के उपरांत ब्रह्मा जी ने भगवान विष्णु को इसके पालन पोषण के लिए आग्रह किया और हम सभी के पालन पोषण की ज़िम्मेदारी भगवान विष्णु की ही है। जब तक हमारा जीवन है हमारे जीवन के संचालन के लिए और इस जगत के और प्रकृति मे स्थिरता बनाए रखने के लिए भगवान विष्णु के आशीर्वाद की आवश्यकता होती है इनके पूजन मात्र से हमारे जीवन की बाधाएँ समाप्त होती है और हमारे जीवन मे सुख और समृद्धि का संचार होता है। 

3- शक्ति- भारतीय दर्शन शस्त्र के अंतर्गत इस संसार एवं जगत का संचालन का कार्य पुरुष और प्रकृति के रूप मे दो प्रमुख शक्तियाँ करती है। जहां पर प्रकृति का तात्पर्य शक्ति से है जो हमारे जगत मे समानता का भाव बनाए रखने का कार्य करती है। हमारे भारतीय परंपरा मे अर्धनारीश्वर देव की व्याख्या है जिसके अनुसार केवल पुरुष मात्र पूर्णता नहीं प्रदान कर सकता बल्कि शक्ति की आवश्यकता भी है इसलिए शक्ति के स्वरूप मे पंच देव का स्थान रखा गया है।

4- गणेश- भगवान गणेश कई प्रकार की शक्तियों के दाता हैं। मटा पार्वती के पुत्र और मटा लक्ष्मी के मानस पुत्र के रूप मे इनके कृपा से सभी प्रकार की कामनाएँ पूरी होती है। साथ ही साथ रिद्धी सिद्धि के रूप मे इनकी पत्नियों की कृपा भी इनके पूजन मात्र से प्राप्त हो सकता है। प्रथम पूज्य गणेश के पूजन मात्र से हमे सुख समृद्धि धन वैभव इत्यादि सभी कामनाओं की पूर्ति होती है। 

5- शिव- भारतीय सनातन परंपरा मे भगवान शिव को संहारकर्ता के रूप मे जाना जाता है। संहार कर्ता को विस्तार से समझने का प्रयास करे तो इंका कार्य इस जगत मे संतुलन बना कर रखना है। शिव ही है जो इस जगत के विचलन को संतुलित करते है जिस प्रकार से समुद्र मंथन मे सबसे पहले निकले हलाहल विश को कंठ मे धारण करके इन्होने समस्त जगत की रक्षा की। इनकी पूजा और कृपा से हम सभी के जीवन मे संतुलन बना रहता है। 

वैसे तो सनातन धर्म मे कई देवी देवताओं का वर्णन है कुछ लोग 33 करोड़ देवी देवता की भी बात करते है लेकिन उपरोक्त वर्णित पंच देवों का वर्णन हर प्रमुख ग्रन्थों और कथाओं मे है। कोई भी सुभ कार्य हो अथवा हमारे दिन की शुरुआत इनका पूजन और इनका ध्यान करना अति आवश्यक है। 

अगर हम ध्यान से देखे तो सूर्य से ऊर्जा, विष्णु से जीवन संचालन, शक्ति से पूर्णता, गणेश से सुख समृद्धि और शिव से संतुलन इन पंच देवों के पाँच गुणो की कृपा प्राप्त करके हम अपने जीवन को बहुत ही सुखमय और खुशहाल बना सकते है। जो पंच तत्वों का वर्णन हमने अपनी पूर्व के लेख मे किया था उनका भी संबंध इनकी शक्तियों के द्वारा है। 

तो दोस्तों आपको हमारा आज का लेख कैसा लगा हमे अवश्य बताए और ऐसे ही अन्य धर्म एवं दर्शन से जुड़ी रोचक तथ्यों एवं किस्से कहानियों को जानने के लिए हमारे इस पेज से जुड़े रहे और बाकियों के साथ भी share करें। 

धन्यवाद!

||इति शुभम्य||

Similar Posts

Leave a Reply