तर्क और समझ (Logic and Understanding) की आवश्यकता

महान पश्चिमी दार्शनिक जॉन लॉक ने एक सिद्धान्त दिया है जिसके अनुसार एक बच्चे का मस्तिष्क शुरुवात मे  Tabula Rasa होता है। अर्थात उनका मस्तिष्क एक खाली स्लेट की तरह होता है, उनमे तर्क और समझ या फिर कुछ भी …

Read More

Phineas and Ferb- कार्टून कोना Hindi Review बच्चों के लिए-

वर्तमान समय मे बच्चो के लिए Cartoon Shows बहुत महत्वपूर्ण है। लेकिन परेशानी ये है की कौन सा Cartoon Show उनके लिए उचित होगा और कौन सा नहीं। आज हम बात करेंगे Phineas and Ferb Show की जिसका प्रसारण Disney …

Read More

जापानी सभ्यता (Japanese Culture) के अनुरूप बच्चों का विकास-

हर परिवार में बच्चे की शरारतें जितनी लोगो को अच्छी लगती है उसी के साथ समय बीतते बीतते परिवार के लोग इस चिंता मे भी रहते है कि उनकी परवरिश किस प्रकार से करे जिससे उनका बौद्धिक विकास और मानसिक …

Read More

Technology का सही उपयोग: For Kids & Youth

आज का समय Technology का समय है। हमारी सम्पूर्ण दिनचर्या मे मे तकनीकी का बहुत ही ज्यादा योगदान है। हमरी जिंदगी मे Gadgets, Apps इत्यादि हमारे जीवन का एक हिस्सा बनते जा रहे है। लेकिन जिस प्रकार से इन चीजों …

Read More

10 गुम होते बच्चों के पारंपरिक (Traditional) खेल

आज के समय में बच्चों मे खेलों के प्रति अरुचि देखि जाती है। अगर खेलो की बात करे तो मोबाइल और विडियो गेम ही उनके मन में प्रथम स्थान रखता है। आज की भागा दौड़ी वाली जिंदगी में बच्चों को …

Read More

बच्चों मे रुचि (Hobby) का उद्भव

बच्चे का मस्तिष्क कुछ भी ग्रहण करने के लिए बहुत ही उपयुक्त होता है। उसे कुछ अच्छा सिखाया जाएगा तो वो अच्छी चीजे ग्रहण करेगा। और अगर उसे कुछ गलत सिखाया जाएगा तो गलत ग्रहण करेगा। हर व्यक्ति में कुछ …

Read More

बच्चो की मनोरंजन की दुनिया: क्या उचित क्या अनुचित

बच्चों की एक अपनी ही दुनिया होती है। न कोई चिंता न भय केवल और केवल मुस्कुराता हुआ चेहरा लिए एक मासूम। अगर हम देखे तो बच्चे जब कभी दुखी या किसी से नाराज होते है तो उसे ज्यादा देर …

Read More

बढ़ते आयु के आधार पर बच्चों का व्यक्तित्व विकास और समाज का प्रभाव

महान पाश्चात्य दार्शनिक जॉन लॉक नए जन्मे शिशु के मस्तिष्क की तुलना Tabula Rasa (खाली स्लेट) से की थी। उनके अनुसार जब एक शिशु जन्म लेता है तो उसका मस्तिष्क एकदम रिक्त होता है। और जिस प्रकार शिशु का शारीरिक …

Read More

बाल मन में नैतिकता का उद्भव एवं उत्थान

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और समाज में स्थापित रहने के लिए समाज के लोगो के मध्य सामंजस्य होना अति आवश्यक है। और समाज में सामंजस्य बनाए रखने के लिए लोगो में नैतिकता का होना अति आवश्यक तत्व है। किसी …

Read More

कार्टून प्रोग्राम: 90 का दशक और आज के समय में परिवर्तन

भारत में कार्टून प्रोग्राम का उद्भव अगर देखा जाए तो भारत में कार्टून प्रोग्राम (Cartoon Characters India) का उद्भव 90 के दशक मे हुआ दूरदर्शन का नया नया आगाज हुआ था। रामनन्द सागर कृत रामायण और बी. आर. चोपड़ा कृत …

Read More