जनसंख्या नियंत्रण कानून और आज की जीवन शैली- देर कर दी हुजूर आते आते

जनसंख्या नियंत्रण कानून और आज की जीवन शैली- देर कर दी हुजूर आते आते

अभी कुछ दिनों से जनसंख्या नियंत्रण कानून पर चर्चा चल रही है, उत्तर प्रदेश राज्य ने इस कानून को लागू भी कर दिया वहीं भारत सरकार भी इस कानून को अमली जामा फहनाने की प्रक्रिया कर रही है। इसके अंतर्गत 2 से अधिक बच्चे होने की सूरत मे कई प्रमुख सरकारी योजनाओं का लाभ उनको…

कोरोना भी हम भारतीयों को कुछ न सिखा पायी

कोरोना भी हम भारतीयों को कुछ न सिखा पायी

कोरोना महामारी का असर इस धरती पर रहने वाले सभी जनों पर हुआ। इस महामारी के प्रकोप से कोई भी नही बच पाया फिर चाहे वो आर्थिक रूप से प्रभावित हुआ हो, शारीरिक या फिर मानसिक। इस महामारी ने हम सभी के जीवन शैली को बदल कर रख दिया। हमारा दैनिक जीवन पूरी तरह से…

आज की तकनीकी कैसे हमारे विचारों को सीमित कर सकती है।

आज की तकनीकी कैसे हमारे विचारों को सीमित कर सकती है।

इस तकनीकी के संसार मे हमारे लिए किसी भी प्रकार की जानकारी समाचार इत्यादि प्राप्त करना बहुत आसान हो गया है कुछ वर्ष पहले जहां हमे किसी विषय के बारे मे कुछ जानने के लिए जहां ढेर सारी किताबें खंगालनी पढ़ती थी और कई पुस्तकालयों के चक्कर लगाने पढ़ते थे वही आज केवल एक क्लिक…

जीवन आदर्श सिखाती गुरु नानक देव के कुछ प्रेरक प्रसंग- गुरु नानक देव जयंती विशेष

जीवन आदर्श सिखाती गुरु नानक देव के कुछ प्रेरक प्रसंग- गुरु नानक देव जयंती विशेष

कार्तिक मास की पुर्णिमा तिथि जो कि सनातन धर्म मे बहुत महत्वपूर्ण तिथि है इस दिन पवित्र मास कार्तिक क्का समापन होता है। और इसी दिन देव दीपावली एवं कार्तिक पुर्णिमा स्नान का महत्व है उसी प्रकार इसी दिन सिखों के प्रथम गुरु गुरु नानक देव जी का जन्म दिवस भी बहुत ही धूम धाम…

लाल बहादुर शास्त्री सादा जीवन उच्च विचार का सच्चा उदाहरण

लाल बहादुर शास्त्री सादा जीवन उच्च विचार का सच्चा उदाहरण

02 अक्टूबर को भारत देश मे राष्ट्रीय त्योहार के रूप मे मनाया जाता है। इस तारीख को देश को 2 महान विभूतियों के जन्मदिन के रूप मे मनाया जाता है। हर बच्चा जानता है इस दिन महात्मा गांधी और लालबहादुर शास्त्री के जयंती के रूप मे मनाया जाता है। इसी के कारण आज हम अपने…

भारतीय सभ्यता का एक युग जो कहीं खोता जा रहा है

भारतीय सभ्यता का एक युग जो कहीं खोता जा रहा है

आज बहुत दिनों बाद पुराने दिनों की याद आ गई 90 की दशक की पैदाइश हूँ। जन्म भी एक छोटे से शहर मे हुआ था। 90 के दशक के बच्चे तो अब बच्चे नहीं रहे लेकिन ये लोग सबसे ज्यादा बदलाव देखने वाले लोगो मे आते है। यही लोग है जिन्होने एक धीमी गति से…

आशीर्वाद क्या है, सनातन धर्म मे क्या है इसकी महत्ता

आशीर्वाद क्या है, सनातन धर्म मे क्या है इसकी महत्ता

सनातन धर्म मे आशीर्वाद को उस अवयव के रूप मे देखा जाता है जो हमारे जीवन की बाधाओं परेशानियों को दूर करती है। हमारे समाज मे अपने से बड़े को नमस्कार एवं प्रणाम करने के उपरांत बड़ों द्वारा आशीर्वाद लेने की परंपरा है। आशीर्वाद दो शब्दो आशीष और वाद के संधि से बना है। जिसके…

सफलता के मूल मंत्र, सफल व्यक्ति की पहचान- दार्शनिक विवेचना

सफलता के मूल मंत्र, सफल व्यक्ति की पहचान- दार्शनिक विवेचना

सफलता के मूल मंत्र- मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। और इस समाज मे हर कोई एक भाग दौड़ मे रहता है वो है, सफलता प्राप्ति की दौड़। इंसान पूरी उम्र इस दौड़ मे लगा रहता है। लेकिन उसको शायद समाज तो सफल मान सकता है लेकिन प्रतिस्पर्धा और ज्यादा पाने की चाह मे इंसान की…

हम सब के मन और जीवन की भाषा हिन्दी- हिन्दी दिवस विशेष

हम सब के मन और जीवन की भाषा हिन्दी- हिन्दी दिवस विशेष

भारतीय संविधान के भाग 17 के तहत 14 सितंबर 1949 को हिन्दी को भारत की राजभाषा के रूप मे अंगीकृत किया गया है। तभी से ही हर वर्ष 1 से 14 सितंबर को हिन्दी पखवाड़ा के रूप मे मनाया जाता है। तथा 14 सितंबर को सम्पूर्ण देश मे हिन्दी दिवस के रूप मे मनाया जाता…

सकारात्मक सोच (Positive Thinking) हमारा भविष्य निर्धारण करती हैं: प्रसंग

सकारात्मक सोच (Positive Thinking) हमारा भविष्य निर्धारण करती हैं: प्रसंग

ये बात तो हम सभी जानते है कि हमारी सोच का असर हमारे जीवन पर पड़ता है। जैसा हम सोचते है वैसा ही हमारे जीवन का निर्धारण होता है। जब कभी भी हम अपने जीवन मे किसी दुविधा या परेशानी मे पड़ते है तो लोगो अक्सर बोलते कि सकारात्मक सोच (Positive Thinking) रखो सब कुछ…