10  गुम होते बच्चों के खेल: पारंपरिक (Traditional) खेल

10 गुम होते बच्चों के खेल: पारंपरिक (Traditional) खेल

आज के समय में बच्चों मे खेल के प्रति अरुचि देखी जाती है। अगर खेलो की बात करे तो मोबाइल और विडियो गेम ही उनके मन में प्रथम स्थान रखता है। आज की भागा दौड़ी वाली जिंदगी में बच्चों को भी समय का अभाव है। प्रतिस्पर्धा भरी जीवन के कारण आज कल के बच्चे अपने…

बच्चों में रुचि (Hobby) का उद्भव

बच्चों में रुचि (Hobby) का उद्भव

बच्चे का मस्तिष्क कुछ भी ग्रहण करने के लिए बहुत ही उपयुक्त होता है। उसे कुछ अच्छा सिखाया जाएगा तो वो अच्छी चीजे ग्रहण करेगा। और अगर उसे कुछ गलत सिखाया जाएगा तो गलत ग्रहण करेगा। हर व्यक्ति में कुछ न कुछ रुचि अवश्य होती है। और अगर बच्चों में रुचि को शुरू से ही…

बच्चों के मनोरंजन की दुनिया: क्या उचित क्या अनुचित

बच्चों के मनोरंजन की दुनिया: क्या उचित क्या अनुचित

बच्चों के मनोरंजन की दुनिया: क्या उचित क्या अनुचित- बच्चों की एक अपनी ही दुनिया होती है। न कोई चिंता न भय केवल और केवल मुस्कुराता हुआ चेहरा लिए एक मासूम। अगर हम देखे तो बच्चे जब कभी दुखी या किसी से नाराज होते है तो उसे ज्यादा देर तक अपने मन में नहीं रखते…

बढ़ते आयु के आधार पर बच्चों का व्यक्तित्व विकास और समाज का प्रभाव

बढ़ते आयु के आधार पर बच्चों का व्यक्तित्व विकास और समाज का प्रभाव

बढ़ते आयु के आधार पर बच्चों का व्यक्तित्व विकास और समाज का प्रभाव- महान पाश्चात्य दार्शनिक जॉन लॉक नए जन्मे शिशु के मस्तिष्क की तुलना Tabula Rasa (खाली स्लेट) से की थी। उनके अनुसार जब एक शिशु जन्म लेता है तो उसका मस्तिष्क एकदम रिक्त होता है। और जिस प्रकार शिशु का शारीरिक विकास होता…

बाल मन में नैतिकता का उद्भव एवं उत्थान

बाल मन में नैतिकता का उद्भव एवं उत्थान

बाल मन में नैतिकता का उद्भव एवं उत्थान- मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और समाज में स्थापित रहने के लिए समाज के लोगो के मध्य सामंजस्य होना अति आवश्यक है। और समाज में सामंजस्य बनाए रखने के लिए लोगो में नैतिकता का होना अति आवश्यक तत्व है। किसी व्यक्ति में नैतिकता की भावना एक क्षण…

कार्टून प्रोग्राम: 90 का दशक और आज के समय में परिवर्तन

कार्टून प्रोग्राम: 90 का दशक और आज के समय में परिवर्तन

भारत में कार्टून प्रोग्राम का उद्भव- अगर देखा जाए तो भारत में कार्टून प्रोग्राम (Cartoon Characters India) का उद्भव 90 के दशक मे हुआ दूरदर्शन का नया नया आगाज हुआ था। रामनन्द सागर कृत रामायण और बी. आर. चोपड़ा कृत महाभारत के साथ ही द जंगल बुक (मोगली की कहानी) भी जन सामान्य में प्रचलित…