मन की मलिनता (Discordance of mind) ईश्वर साधना मे बाधक- प्रसंग

प्रतिदिन हम सुबह उठकर स्नान शौच इत्यादि के जरिये अपनी शारीरिक मलिनता को खत्म करते है। लेकिन मन की मलिनता (Discordance of mind) की सफाई करते है इसको लेकर शंशय होना स्वाभाविक है। केवल शारीरिक शुद्धि से हम ईश्वर साधना …

Read More

अयोध्या दर्शनीय स्थल- रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र सम्पूर्ण दर्शन

अयोध्या नाम ही काफी है। सप्तपुरियों मे प्रथम तीर्थ स्थल उत्तर प्रदेश के अयोध्या जिले मे स्थित है जिसे पहले फ़ैज़ाबाद जिले के नाम से जाना जाता है। अयोध्या का नाम आते ही सभी के मन मे एक ही विचार …

Read More

तर्क और समझ (Logic and Understanding) की आवश्यकता

महान पश्चिमी दार्शनिक जॉन लॉक ने एक सिद्धान्त दिया है जिसके अनुसार एक बच्चे का मस्तिष्क शुरुवात मे  Tabula Rasa होता है। अर्थात उनका मस्तिष्क एक खाली स्लेट की तरह होता है, उनमे तर्क और समझ या फिर कुछ भी …

Read More

नर सेवा करने वाला ही असली नायक (Real Hero)

मानवता के कुछ प्रमुख गुणो की बात की जाये तो उनमे सबसे प्रमुख कारक है सेवा भाव और सेवा भाव ही हमे असली मानव के स्वरूप को पहचान देती है। किसी साधु की बात हो या फिर कोई भी महापुरुष …

Read More

मनोभाव (Thoughts) भी तय करते है आपका कर्मफल- एक प्रसंग

कहते है हम जैसा सोचते है वैसा हमारे साथ होता है। लेकिन साथ ही साथ ऐसा भी है कि हम यदि कुछ करते हुए जैसा मनोभाव (Thoughts) रखते है, उसे के अनुरूप हमे कर्म फल प्राप्त होता है। भले ही …

Read More

जन जन को राम नाम सुलभ कराया महाकवि तुलसीदास ने- जयंती विशेष

जन जन के मन मस्तिष्क मे राम की कथा कंठस्थ है और अगर बोला जाये इसका प्रमुख कारण महाकवि तुलसीदास (Tulsidas) है तो ये कोई अतिस्योक्ति नहीं होगा। आज श्रावण मास के शुक्ल पक्ष के सप्तमी तिथि को जन कवि …

Read More

ओरछा के राम की अद्भुत कथा- महल मे विराजमान ओरछा के राजाराम

प्रभु श्री राम का नाम आते ही हम पावन नागरी अयोध्या के बारे मे सोचते है। लेकिन क्या आप जानते है कि मध्य प्रदेश राज्य के निवाड़ी (Niwari) जिले मे स्थित ओरछा (Orchha) नमक स्थान प्रभु श्री राम को लेकर …

Read More

पिता पुत्र (Father and Son) का उत्तराधिकार स्थानांतरण और कर्तव्य- प्राचीन परंपरा

आज के वर्तमान समय मे हम पिता और पुत्र (Father and Son) के मध्य होने वाले उत्तराधिकार के स्थानांतरण को बहुत ही सीमित रूप मे देखते है। आज के समय के अनुसार पिता की संपत्ति और संसाधनो पर एक समय …

Read More

महर्षि विश्वामित्र (Vishvamitra): एक प्रतापी राजा से महर्षि बनने की कथा

महर्षि विश्वामित्र (Vishvamitra) को हम सभी जानते है। क्योंकि रामायण की कथा से इनका संबंध है। इन्होने ही महाराज दशरथ से राम और लक्ष्मण की मांग की जो उनके आश्रम मे उनके यज्ञ पूजन की रक्षा करेंगे। और राम लक्ष्मण …

Read More

धन के देवता कुबेर (Kuber) का अभिमान नाश- कथा (Mythological Story)

हम सभी जानते है कि धन और समृद्धि की देवी माता लक्ष्मी है। लेकिन धन के स्वामी या फिर धन के देवता के रूप में कुबेर देव (Kuber) की पुजा होती है। कई पौराणिक धार्मिक ग्रंथो मे कुबेर के जन्म …

Read More